पद्म पुरस्कार 2024 विजेताओं की सूची | Padma Awards 2024 Winners List in Hindi PDF

MSR

Padma Awards 2024 Winners List in Hindi
Padma Awards 2024 Winners List in Hindi

पद्म पुरस्कार 2024 (Padma Awards 2024)

आज 26 जनवरी, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों 2024 गणतंत्र दिवस के अवसर पर कई ऐसे व्यक्तियों को इन सम्मानों किया गया, जिन्होंने अपने क्षेत्रों में असाधारण योगदान दिया है. उनके जीवन और कार्यों से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए और देश के विकास में अपना योगदान देना चाहिए।

इस वर्ष पद्म पुरस्कार विजेताओं की सूची में 132 नाम हैं, जिनमें दो युगल मामले (एक युगल मामले में, पुरस्कार को एक के रूप में गिना जाता है) शामिल हैं। इस सूची में 5 पद्म विभूषण, 17 पद्म भूषण और 110 पद्म श्री पुरस्कार शामिल हैं।

पुरस्कार विजेताओं में से 30 महिलाएं हैं, और सूची में विदेशी अनिवासी भारतीय (एनआरआई), भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ), भारत की विदेशी नागरिकता (ओसीआई), और नौ मरणोपरांत पुरस्कार विजेताओं की श्रेणियों के 8 व्यक्ति भी शामिल हैं।

पद्म पुरस्कार पद्म पुरस्कार समिति द्वारा की गई सिफारिशों पर प्रदान किए जाते हैं, जिसका गठन हर साल प्रधान मंत्री द्वारा किया जाता है। पद्म पुरस्कार समिति की अध्यक्षता कैबिनेट सचिव करते हैं और इसमें गृह सचिव, राष्ट्रपति के सचिव और चार से छह प्रतिष्ठित व्यक्ति सदस्य के रूप में शामिल होते हैं। समिति की सिफारिशें अनुमोदन के लिए प्रधान मंत्री और भारत के राष्ट्रपति को प्रस्तुत की जाती हैं।

पद्म विभूषण (Padma Vibhushan Awards 2024)

  1. वैजयंतीमाला बाली
  2. कोनिडेला चिरंजीवी
  3. एम वेंकैया नायडू
  4. बिंदेश्वर पाठक (मरणोपरांत)
  5. पद्मा सुब्रह्मण्यम

पद्म भूषण (Padma Bhushan Awards 2024)

  1. एम फातिमा बीवी (मरणोपरांत)
  2. होर्मुसजी एन कामा
  3. मिथुन चक्रवर्ती
  4. सीताराम जिंदल
  5. यंग लियू
  6. अश्विन बालचंद मेहता
  7. सत्यब्रत मुखर्जी (मरणोपरांत)
  8. राम नाईक
  9. तेजस मधुसूदन पटेल
  10. ओलानचेरी राजगोपाल
  11. दत्तात्रेय अंबादास मयालू उर्फ राजदत्त
  12. तोगदान रिनपोछे (मरणोपरांत)
  13. प्यारेलाल शर्मा
  14. चंद्रेश्वर प्रसाद ठाकुर
  15. उषा उथुप
  16. विजयकांत (मरणोपरांत)
  17. कुन्दन व्यास

पद्म श्री (Padma Shri Awards 2024)

  1. खलील अहमद
  2. बदरप्पन एम
  3. कालूराम बामणिया
  4. रेजवाना चौधरी बन्न्या
  5. नसीम बानो
  6. रामलाल बारेठ
  7. गीता रॉय बर्मन
  8. पारबती बरुआ
  9. सरबेश्वर बसुमतारी
  10. सोम दत्त बट्टू
  11. तकदीरा बेगम
  12. सत्यनारायण बेलेरी
  13. द्रोण भुइयां
  14. अशोक कुमार विश्वास
  15. रोहन मचांदा बोपन्ना
  16. स्मृति रेखा चकमा
  17. नारायण चक्रवर्ती
  18. एक वेलु आनंद चारी
  19. राम चेत चौधरी
  20. के चेल्लाम्मल
  21. जोशना चिनप्पा
  22. चार्लोट चोपिन
  23. रघुवीर चौधरी
  24. जो डी क्रूज़
  25. गुलाम नबी डार
  26. चित्त रंजन देबबर्मा
  27. उदय विश्वनाथ देशपांडे
  28. प्रेमा धनराज
  29. राधा कृष्ण धीमान
  30. मनोहर कृष्ण डोले
  31. पियरे सिल्वेन फ़िलिओज़ैट
  32. महाबीर सिंह गुड्डु
  33. अनुपमा होस्केरे
  34. यज़्दी मानेकशा इटालिया
  35. राजाराम जैन
  36. जानकीलाल
  37. रतन कहार
  38. यशवंत सिंह कठोच
  39. ज़हीर आई काज़ी
  40. गौरव खन्ना
  41. सुरेंद्र किशोर
  42. दसारी कोंडप्पा
  43. श्रीधर मकाम कृष्णमूर्ति
  44. .यानुंग जमोह लेगो
  45. जॉर्डन लेप्चा
  46. सतेन्द्र सिंह लोहिया
  47. बिनोद महराना
  48. पूर्णिमा महतो
  49. उमा माहेश्वरी डी
  50. दुखु माझी
  51. राम कुमार मल्लिक
  52. हेमचंद मांझी
  53. चन्द्रशेखर महादेवराव मेश्राम
  54. सुरेंद्र मोहन मिश्र (मरणोपरांत)
  55. अली मोहम्मद और श्री गनी मोहम्मद (जोड़ी)
  56. कल्पना मोरपारिया
  57. चामी मुर्मू
  58. ससींद्रन मुथुवेल
  59. जी नचियार
  60. किरण नादर
  61. पकरावुर चित्रन नंबूदरीपाद (मरणोपरांत)
  62. नारायणन ई.पी
  63. शैलेश नायक
  64. हरीश नायक (मरणोपरांत)
  65. फ्रेड नेग्रिट
  66. हरिओम
  67. भागवत पधान
  68. सनातन रूद्र पाल
  69. शंकर बाबा पुंडलिकराव पापलकर
  70. राधेश्याम पारीक
  71. दयाल मावजीभाई परमार
  72. बिनोद कुमार पसायत
  73. सिल्बी पासाह
  74. शांति देवी पासवान और श्री शिवन पासवान (जोड़ी)
  75. संजय अनंत पाटिल
  76. मुनि नारायण प्रसाद
  77. के एस राजन्ना
  78. चन्द्रशेखर चन्नपटना राजन्नाचर
  79. भगवतीलाल राजपुरोहित
  80. रोमालो राम
  81. नवजीवन रस्तोगी
  82. निर्मल ऋषि
  83. प्राण सभरवाल
  84. गद्दाम सम्मैय्या
  85. संगथंकिमा
  86. मचिहान सासा
  87. ओमप्रकाश शर्मा
  88. एकलब्य शर्मा
  89. राम चंदर सिहाग
  90. हरबिंदर सिंह
  91. गुरविंदर सिंह
  92. गोदावरी सिंह
  93. रवि प्रकाश सिंह
  94. शेषमपट्टी टी. शिवलिंगम
  95. सोमन्ना
  96. केथवथ सोमलाल
  97. शशि सोनी
  98. उर्मिला श्रीवास्तव
  99. नेपाल चंद्र सूत्रधार (मरणोपरांत)
  100. गोपीनाथ स्वैन
  101. लक्ष्मण भट्ट तैलंग
  102. माया टंडन
  103. अश्वथी थिरुनल गौरी लक्ष्मी बाई थंपुरट्टी
  104. जगदीश लाभशंकर त्रिवेदी
  105. सानो वमुज़ो
  106. बालकृष्णन सदनम पुथिया वीटिल
  107. कुरेला विट्ठलाचार्य
  108. किरण व्यास
  109. जागेश्वर यादव
  110. बाबू राम यादव

Padma Awards 2024 Winners List in Hindi PDF

पद्म विभूषण: असाधारण और विशिष्ट सेवा का प्रतीक

पद्म विभूषण, पद्म पुरस्कार में सर्वोच्च सम्मान है. यह उन असाधारण व्यक्तियों को प्रदान किया जाता है, जिन्होंने देश के लिए “एक्सेप्शनल एंड डिस्टिंग्विश्ड सर्विस” यानी असाधारण और विशिष्ट सेवाएं निभाई हैं.

इन सेवाओं का दायरा किसी भी क्षेत्र में हो सकता है, कला, साहित्य, विज्ञान, सामाजिक कार्य, इंजीनियरिंग और खेल जैसी विविधताएं शामिल हैं. पद्म विभूषण से सम्मानित होने वाले व्यक्ति न केवल अपने क्षेत्र में शीर्ष प्रदर्शन करते हैं, बल्कि अपने काम से एक सकारात्मक बदलाव लाते हैं और समाज को प्रेरित करते हैं.

पद्म भूषण: उत्कृष्ट सेवा का अनमोल चिन्ह

पद्म भूषण दूसरा सबसे बड़ा पद्म सम्मान है, जो “डिस्टिंग्विश्ड सर्विस ऑफ हाई ऑर्डर” यानी उच्च क्रम की विशिष्ट सेवा के लिए प्रदान किया जाता है. इस सम्मान के प्राप्तकर्ता उन व्यक्तियों में से हैं, जिन्होंने अपने क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और सराहनीय कार्य किए हैं.

पद्म श्री: सम्मान का पहला सोपान

पद्म श्री पद्म पुरस्कारों की तीसरी कड़ी है. यह “डिस्टिंग्विश्ड सर्विस इन एनी फ़ील्ड” यानी किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट सेवा के लिए प्रदान किया जाता है. यह सम्मान उन योग्य व्यक्तियों को दिया जाता है, जिन्होंने अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है और सराहनीय कार्य किए हैं, भले ही उनका करियर अभी प्रारंभिक अवस्था में ही क्यों न हो.

ये पुरस्कार क्यों खास हैं?

पद्म पुरस्कारों को अन्य नागरिक सम्मानों से कई मायनों में अलग माना जाता है.

  • समावेशी चरित्र: ये पुरस्कार किसी भी क्षेत्र, जाति, धर्म या लिंग के व्यक्तियों को दिए जा सकते हैं. यह इस बात का उदाहरण है कि भारत अपनी विविधता को कैसे मनाता है और हर क्षेत्र में योगदान को महत्व देता है.
  • निष्पक्ष चयन प्रक्रिया: इन पुरस्कारों के लिए नामांकन आम जनता से भी लिए जाते हैं, जिन्हें बाद में एक स्वतंत्र समिति द्वारा सावधानीपूर्वक परखा जाता है. यह प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी और निष्पक्ष होती है.
  • राष्ट्रीय पहचान: पद्म पुरस्कार प्राप्त करना अपने क्षेत्र में शीर्ष सम्मान की बात है. इससे न केवल व्यक्तिगत स्तर पर गौरव प्राप्त होता है, बल्कि पूरे देश के सामने उनकी उपलब्धियों को भी उजागर किया जाता है.

Leave a Comment