Dunki Review (डंकी): दिल छू लेने वाली हंसी और जीवन-बदल देने वाली यात्रा

MSR

Dunki Review (डंकी): दिल छू लेने वाली हंसी और जीवन-बदल देने वाली यात्रा

डंकी: दिल छू लेने वाली हंसी और जीवन-बदल देने वाली यात्रा (Dunki Review)

Dunki Review (डंकी): दिल छू लेने वाली हंसी और जीवन-बदल देने वाली यात्रा

शाहरुख खान और राजकुमार हिरानी का कॉम्बो – क्या इससे बेहतर कुछ हो सकता है? डंकी के साथ यही सवाल दिमाग में घूमता रहता है। 21 दिसंबर को रिलीज हुई फिल्म एक ऐसे सफर की कहानी है जो सिर्फ सरहद नहीं लाघता, बल्कि जिंदगी का असल मतलब भी समझाता है। आइए देखते हैं कि क्या फिल्म अपनी उम्मीदों पर खरी उतरती है?

कहानी का सार:

पंजाब के एक छोटे से गांव से पवन सिंह (शाहरुख खान) नाम का लड़का अपनी जिंदगी बदलने का सपना देखता है। वो इंग्लैंड जाने का ख्वाब पाले हुए है, लेकिन पासपोर्ट और वीजा का इंतजार करना तो दूर की बात, पास की टिकट तक का जुगाड़ करना आसान नहीं है। तब वो अपने दोस्तों के साथ मिलकर “डंकी फ्लाइट” के झंझटभरे रास्ते पर चल पड़ता है – एक गैर-कानूनी तरीका जो कई अनदेखे सफर करवाता है।

इस यात्रा में पवन की मुलाकात सिया (तापसी पन्नू) से होती है, जो उसकी जिंदगी को नया रास्ता दिखाती है। साथ में वो मुश्किलों का सामना करते हैं, सपनों और हकीकत के टकराव को देखते हैं और आखिरकार इंसानियत का असल मतलब समझते हैं।

कलाकारों का कमाल:

शाहरुख खान हमेशा की तरह अपनी चार्म और एनर्जी से स्क्रीन पर छाए हुए हैं. हार्दिक सिंह के किरदार में उनकी मेहनत और जुनून साफ झलकता है. तापसी पन्नू, हार्दिक की साथी के रूप में बेहतरीन प्रदर्शन करती हैं. उनकी और शाहरुख की जोड़ी खूब जमती है. विजय कौशल भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और अपनी कॉमिक टाइमिंग से दर्शकों को हंसाने में कोई कसर नहीं छोड़ते. बाकी कलाकारों का भी सशक्त समर्थन फिल्म को मजबूती देता है.

निर्देशन और कहानी का नशा:

राजकुमार हिरानी अपनी कहानियों में मानवीय भावनाओं को बखूबी पिरोते हैं. डंकी भी इसी सिलसिले में आगे बढ़ती है. फिल्म में हंसी-मजाक के साथ-साथ गंभीर विषयों को भी छुआ गया है. विदेशी सपनों की लालसा, अनियमित रास्तों के खतरे, और दोस्ती का अनमोल खजाना – ये सभी तत्व फिल्म में एक खूबसूरत मिश्रण बनाते हैं. हालांकि, कहानी के कुछ हिस्सों में तेज गति की कमी लगती है, जो दर्शकों को थोड़ा धीमा महसूस करा सकती है.

क्यों देखें डंकी?:

  1. शाहरुख खान का दमदार अभिनय: डंकी में शाहरुख खान एक नए अवतार में नजर आते हैं। पवन सिंह के किरदार में वो एक साधारण आदमी की उम्मीदों, हताशाओं और हौसले को बखूबी दर्शाते हैं। उनकी कॉमिक टाइमिंग और दिल को छू लेने वाला प्रदर्शन फिल्म की जान है।
  2. राजकुमार हिरानी का अनोखा नजरिया: हिरानी अपने सिनेमा के जादू को एक बार फिर से बिखेरते हैं। हंसी-मजाक के बीच वो गंभीर मुद्दों को भी बड़ी ही सहजता से उठाते हैं। फिल्म में इंसानियत, दोस्ती और सपनों की ताकत पर खूबसूरत कहानी सुनाई गई है।
  3. तापसी पन्नू का सशक्त किरदार: सिया के रूप में तापसी पन्नू एक मजबूत और स्वतंत्र महिला का किरदार निभाती हैं। वो न सिर्फ पवन को सहारा देती हैं, बल्कि कहानी में एक अहम मोड़ भी लाती हैं।
  4. विजुअल एफेक्ट का दमदार कैमियो: फिल्म में विजुअल एफेक्ट का कैमियो दर्शकों को चौंका देगा। उनका शानदार अभिनय फिल्म को और भी दिलचस्प बनाता है।
  5. गाने और संगीत: फिल्म के गाने और संगीत आपको झूमने पर मजबूर कर देंगे। खासकर “दुनिया चक्कर खाए” और “क्यूंकि बिन तेरे…” गाने आपकी जुबान पर चढ़ जाएंगे।

कमियां:

  1. कहानी का कुछ हिस्सा धीमा: फिल्म के दूसरे भाग में कहानी की रफ्तार थोड़ी तेज होने की उम्मीद रहती है, जो कभी-कभी पूरी नहीं होती।
  2. अंत की भविष्यवाणी: फिल्म का अंत काफी हद तक अनुमानित है, जो थोड़ा सा निराश कर सकता है।

कुल मिलाकर:

डंकी एक ऐसी फिल्म है जो आपको हंसाएगी, रुलाएगी और सोचने पर मजबूर करेगी। शाहरुख खान और राजकुमार हिरानी का कॉम्बो कमाल का है, जिसने एक दिलचस्प और सार्थक कहानी पेश की है। कुछ कमियों के बावजूद, डंकी अपने लक्ष्य को पूरा करती है – ये आपका मनोरंजन करती

Leave a Comment