डेविड वॉर्नर ने खटकाया संन्यास का डंका, टेस्ट क्रिकेट को कहा अलविदा, वनडे का पहले ही कर चुके थे ऐलान

MSR

David Warner Announces Retirement: Farewell to Test Cricket- ODIs Already Said Goodbye

डेविड वॉर्नर ने खटकाया संन्यास का डंका, टेस्ट क्रिकेट को कहा अलविदा, वनडे का पहले ही कर चुके थे ऐलान (David Warner Announces Retirement: Farewell to Test Cricket- ODIs Already Said Goodbye)

David Warner Announces Retirement: Farewell to Test Cricket- ODIs Already Said Goodbye

क्रिकेट जगत में एक बड़ा तूफान उठा है। ऑस्ट्रेलियाई धुरंधर ओपनर बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। इस खबर ने उनके प्रशंसकों के दिलों को तोड़ दिया है, लेकिन वॉर्नर ने यह फैसला सोच-समझकर लिया है। आइए जानते हैं उनके संन्यास के पीछे की वजहें और वो शानदार पारी उन्होंने क्रिकेट के मैदान पर खेली है।

टेस्ट क्रिकेट का सितारा हुआ डूब:

37 साल के वॉर्नर ने 112 टेस्ट मैचों में 8,695 रन बनाए हैं, जिसमें 26 शतक और 36 अर्धशतक शामिल हैं। उनका औसत 44.58 है, जो एक बेहतरीन बल्लेबाज होने का प्रमाण है। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को कई यादगार जीत दिलाई है, जो क्रिकेट प्रेमियों के जहन में हमेशा रहेंगी।

वॉर्नर अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे, जो गेंदबाजों पर हमेशा हावी रहती थी। उन्होंने शेन वॉटसन के साथ मिलकर ओपनिंग पेयर में तहलका मचाया और कई रिकॉर्ड बनाए।

संन्यास का फैसला और इसकी वजह:

टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहने के फैसले के पीछे वॉर्नर ने पारिवारिक कारणों को बताया है। उनका कहना है कि अब बेटियों के साथ ज्यादा समय बिताना चाहते हैं। इसके अलावा, वह अपने फिटनेस पर भी ध्यान देना चाहते हैं, जो उम्र बढ़ने के साथ थोड़ी कमजोर हो रही है।

हालांकि, वह टी20 लीग्स में खेलने के लिए तैयार हैं और 2025 चैंपियंस ट्रॉफी में खेलने की इच्छा भी जताई है।

वनडे में पहले ही लिया था संन्यास:

यह ध्यान देने योग्य है कि वॉर्नर ने टेस्ट क्रिकेट के साथ-साथ वनडे क्रिकेट से भी जनवरी 2024 में ही संन्यास ले लिया था। 126 वनडे मैचों में उनके नाम 5,666 रन दर्ज हैं, जिसका औसत 44.89 है। उन्होंने वनडे फॉर्मेट में भी ऑस्ट्रेलिया को कई जीत दिलाई है, जिसमें 2015 और 2023 वर्ल्ड कप में शानदार प्रदर्शन शामिल हैं।

क्रिकेट जगत में वॉर्नर का योगदान:

डेविड वॉर्नर क्रिकेट जगत के एक लोकप्रिय खिलाड़ी रहे हैं। उनकी आक्रामक बल्लेबाजी, खेल के प्रति जुनून और टीम भावना ने उन्हें प्रशंसकों का प्रिय बना दिया। वह ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम के एक स्तंभ माने जाते थे और उनके रिटायरमेंट से टीम को बड़ा झटका लगा है। हालांकि, उनके द्वारा बनाए गए रिकॉर्ड और यादें क्रिकेट प्रेमियों के जहन में हमेशा रहेंगी।

डेविड वॉर्नर के संन्यास का मतलब भले ही ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के लिए एक नुकसान हो, लेकिन उनका अविस्मरणीय योगदान हमेशा सराहा जाएगा। वह एक ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने क्रिकेट के खेल को रोमांचक बनाया और युवा खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत रहे हैं।

आइए उनकी आगामी पारी के लिए शुभकामनाएं दें, चाहे वह क्रिकेट के मैदान पर हो या फिर जीवन के किसी अन्य क्षेत्र में।

Leave a Comment