UPI फ्रॉड से बचने के आसान तरीके – रहें सुरक्षित; करें स्मार्ट ट्रांजैक्शन!

MSR

UPI फ्रॉड से बचने के आसान तरीके - रहें सुरक्षित; करें स्मार्ट ट्रांजैक्शन!

UPI फ्रॉड से बचाव के 15 सुनहरे तरीके: खुद को सुरक्षित रखें, जेब भी सुरक्षित रखें! (Easy ways to avoid UPI fraud – Stay safe, do smart transactions! bank accounts, online accounts, multi-factor authentication, QR Code frauds, Personal Identification Numbers, PINs, Social engineering, voice phishing, personal finance, digital payments, online payments, UPI apps, UPI frauds, UPI PIN, UPI scam, Unified Payments Interface)

UPI फ्रॉड से बचने के आसान तरीके - रहें सुरक्षित; करें स्मार्ट ट्रांजैक्शन!

यूपीआई (Unified Payments Interface) ने हमारे जीवन को काफी आसान बना दिया है. एक क्लिक में पैसे भेजना और रिसीव करना अब बिल्कुल सहज है. लेकिन, इस सुविधा के साथ धोखाधड़ी का खतरा भी बढ़ा है. फिशिंग, क्यूआर कोड फ्रॉड, विश्िंग, सोशल इंजीनियरिंग जैसे जाल बिछाकर धोखेबाज़ आपकी मेहनत की कमाई पर नजर रखते हैं. तो आइए जानते हैं 10 ऐसे सुनहरे तरीकों के बारे में जो आपको यूपीआई फ्रॉड से बचाएंगे और आपका पैसा सुरक्षित रखेंगे:

UPI फ्रॉड से बचाव के आसान तरीके: अपने पैसे को सुरक्षित रखें!

आज के डिजिटल युग में UPI (Unified Payments Interface) हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। छोटी-मोटी खरीदारी से लेकर बिलों का भुगतान तक, यूपीआई तेज़ और सुविधाजनक है। लेकिन, इसी सुविधा के साथ धोखाधड़ी का जोखिम भी बढ़ गया है। फर्जी लिंक, फिशिंग स्कीम और अनधिकृत ऐप्स के जरिए लोगों को ठगाया जा रहा है। इसलिए, अपनी मेहनत की कमाई को बचाने के लिए हमें यूपीआई फ्रॉड से सावधान रहना चाहिए।

आइए जानते हैं कि यूपीआई ट्रांजैक्शन के दौरान खुद को बचाने के आसान तरीके क्या हैं:

यूपीआई फ्रॉड से बचाव के लिए शिक्षित होना सबसे महत्वपूर्ण है। जागरूक रहें, सावधानी बरतें और अपने डेटा की सुरक्षा करें। ये सरल कदम आपको अपने पैसे और यूपीआई अनुभव को सुरक्षित रखने में मदद करेंगे। याद रखें, सतर्कता ही आपकी सबसे मजबूत सुरक्षा है!

1. फिशिंग के जाल से बचें:

अनजान ईमेल, लिंक या एसएमएस पर क्लिक न करें. आधिकारिक ऐप या वेबसाइट से ही यूपीआई ट्रांजैक्शन करें. याद रखें, बैंक कभी भी आपसे फोन पर या एसएमएस के जरिए पिन या ओटीपी नहीं पूछेगा.

2. क्यूआर कोड सावधानी से स्कैन करें:

किसी अनजान व्यक्ति या अविश्वसनीय वेबसाइट के क्यूआर कोड का इस्तेमाल न करें. हमेशा यूपीआई आईडी को मैन्युअल रूप से देखकर वेरिफाई करें. गलत जानकारी वाला क्यूआर कोड आपको धोखाधड़ी के जाल में फंसा सकता है.

3. विशिंग (वॉइस फिशिंग) से सावधान रहें:

धोखेबाज़ बैंक अधिकारी बनकर आपको फोन कर सकते हैं. कभी भी फोन पर अपनी पिन या ओटीपी न बताएं. किसी भी संदिग्ध कॉल को तुरंत बंद कर दें और आधिकारिक बैंक चैनलों से संपर्क करें.

4. सोशल इंजीनियरिंग के जाल में न फंसे:

धोखेबाज़ अक्सर आपकी जानकारी हासिल करने के लिए मासूम कहानियां सुनाते हैं या आपकी मदद मांगते हैं. किसी भी अनजान व्यक्ति को अपनी वित्तीय जानकारी न दें. यूपीआई से जुड़े किसी भी मामले में सीधे बैंक से संपर्क करें.

5. फोन लॉक रखें:

जब आप फोन इस्तेमाल नहीं कर रहे हों तो उसे लॉक रखें. एक मजबूत पिन या पासकोड का इस्तेमाल करें और इसे किसी के साथ साझा न करें. आपके फोन तक अनधिकृत पहुंच का मतलब आपके पैसे के लिए खतरा है.

6. पिन और पासवर्ड गुप्त रखें:

अपनी यूपीआई पिन और किसी भी यूपीआई ऐप के पासवर्ड को किसी के साथ साझा न करें. ये आपके बैंक खाते की चाबी हैं, उन्हें सुरक्षित रखें. किसी भी संदिग्ध गतिविधि पर तुरंत बैंक को सूचित करें.

7. मजबूत पिन बनाएं और उसे सुरक्षित रखें!:

अपने यूपीआई पिन के लिए जन्मतिथि, सालगिरह या मोबाइल नंबर जैसी आसानी से अनुमान लगाई जा सकने वाली जानकारी का इस्तेमाल न करें। इसके बजाय, 6 अंकों का एक मजबूत पिन बनाएं जिसमें अक्षर, नंबर और विशेष अक्षर शामिल हों। किसी को भी अपना पिन न बताएं और इसे गोपनीय रखें।

8. सिर्फ विश्वसनीय ऐप डाउनलोड करें:

केवल आधिकारिक ऐप स्टोर से यूपीआई ऐप डाउनलोड करें. अनजान सोर्स से डाउनलोड किए गए ऐप्स में मैलवेयर या स्पाइवेयर हो सकते हैं, जो आपकी जानकारी चुरा सकते हैं.

9. यूपीआई आईडी को वेरिफाई करें:

किसी को भी ट्रांजैक्शन करने से पहले, यूपीआई आईडी को मैन्युअल रूप से देखकर या कॉन्टेक्ट से वेरिफाई करें. हमेशा आधिकारिक यूपीआई ऐप के भीतर से पेमेंट करें.

10. मल्टी-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (MFA) का इस्तेमाल करें!:

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा अपने यूपीआई खातों के लिए मल्टी-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (MFA) चालू करें। एमएफए के साथ, ट्रांजैक्शन के दौरान एक अतिरिक्त सुरक्षा स्तर जुड़ जाता है। यह आपके फोन पर एक ओटीपी (वन-टाइम पासवर्ड) भेजकर लेन-देन के वैधता की पुष्टि करता है।

11. सार्वजनिक स्थानों पर सावधान रहें or सार्वजनिक वाई-फाई से सावधान रहें!:

पब्लिक वाई-फाई नेटवर्क पर यूपीआई ट्रांजैक्शन करने से बचें. महत्वपूर्ण वित्तीय कार्यों के लिए अपने सुरक्षित नेटवर्क का इस्तेमाल करें. किसी भी असुरक्षित माहौल में जानकारी साझा करने से बचें. ये नेटवर्क सुरक्षित नहीं होते हैं और आपके डेटा को हैकर्स के लिए आसानी से उपलब्ध करा सकते हैं।

12. स्क्रीन-शेयरिंग ऐप्स का सावधानी से इस्तेमाल करें:

स्क्रीन-शेयरिंग ऐप्स का उपयोग करते समय सतर्क रहें. किसी को भी अपनी यूपीआई पिन या अन्य संवेदनशील जानकारी देखने की अनुमति न दें. इन ऐप्स का उपयोग केवल विश्वसनीय लोगों के साथ करें.

13. बैंक और सरकारी संचार पर ध्यान दें!:

अपने बैंक और सरकार की ओर से यूपीआई फ्रॉड के बारे में जारी किए गए चेतावनियों और जागरूकता अभियानों पर ध्यान दें। इससे आप नए फ्रॉड के तरीकों के बारे में जान पाएंगे और खुद को सुरक्षित रखने के लिए उचित कदम उठा सकते हैं।

14. सावधान रहें, जल्दबाजी न करें!

अनजान नंबरों से आए किसी भी लिंक या कॉल पर तुरंत प्रतिक्रिया न करें। ये लिंक आपके फोन में मैलवेयर इंस्टॉल कर सकते हैं या आपके यूपीआई पिन और अन्य संवेदनशील जानकारी चुरा सकते हैं। किसी भी संदेह होने पर, आधिकारिक बैंक एप्लिकेशन या वेबसाइट के जरिए ही लेन-देन करें।

👉 मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना: कैसे छोटा सा मासिक निवेश बदल जाता है एक बड़े…

15. अनधिकृत ऐप्स से बचें!

केवल अपने बैंक के आधिकारिक ऐप या प्रसिद्ध और भरोसेमंद तीसरे पक्ष के ऐप्स का इस्तेमाल करें। अनजान ऐप्स डाउनलोड करने से बचें, क्योंकि ये आपके डेटा को खतरे में डाल सकते हैं। लेन-देन करने से पहले ऐप की समीक्षा और रेटिंग जरूर देखें।

Leave a Comment