अटल बिहारी वाजपेयी: भारत के 10वें प्रधानमंत्री; कवि और राजनीति के ‘अजात शत्रु’

MSR

Atal-Bihari-Vajpayee-birth-day-25-decenber

अटल बिहारी वाजपेयी: भारत के 10वें प्रधानमंत्री, कवि और राजनीति के ‘अजात शत्रु’ (Atal Bihari Vajpayee: 10th Prime Minister of India, poet and ‘caste enemy’ of politics)

अटल बिहारी वाजपेयी: भारत के 10वें प्रधानमंत्री; कवि और राजनीति के 'अजात शत्रु'

25 दिसंबर का दिन भारत के लिए बेहद खास है, क्योंकि इसी दिन महान राजनीतिज्ञ, कवि और राष्ट्रप्रेमी अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म हुआ था. उनकी जयंती को ‘सुशासन दिवस’ के रूप में मनाया जाता है, जो उनके शासन के आदर्शों और देश के प्रति समर्पण को श्रद्धांजलि है. आइए आज उनकी शख्सियत और योगदानों को याद करते हैं.

एक विनम्र नेता और राष्ट्रप्रेमी:

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था. उनके पिता एक शिक्षक थे और उनकी कविता से अटल को भी बचपन से ही रचनात्मकता का जुनून मिला. राजनीति में प्रवेश करने से पहले, वाजपेयी स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रहे और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े.

वह एक ऐसे नेता थे जो विनम्रता, सहनशीलता और राष्ट्रप्रेम के लिए जाने जाते थे. उनकी राजनीति में विरोधियों से भी मित्रता बनाने की खूबी थी, जिसके कारण उन्हें ‘अजात शत्रु’ के नाम से भी जाना जाता था.

भारत का प्रधानमंत्री और ऐतिहासिक निर्णय:

अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रहे. उनका पहला कार्यकाल 1996 में 13 दिन का था, दूसरा 1998 से 1999 तक 13 महीने का और तीसरा 1999 से 2004 तक पूरा पांच साल का था. वह भारतीय जनता पार्टी के पहले ऐसे प्रधानमंत्री थे जिन्होंने पूर्ण कार्यकाल पूरा किया.

उनके प्रधानमंत्री कार्यकाल में कई ऐतिहासिक निर्णय लिए गए, जिनमें से कुछ महत्वपूर्ण निर्णय इस प्रकार हैं:

  • पोखरण-II परमाणु परीक्षण: 1998 में भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया, जिससे देश को परमाणु शक्ति के रूप में मान्यता मिली.
  • लाहौर बस यात्रा: 1999 में वाजपेयी ने लाहौर की ऐतिहासिक बस यात्रा की, जिससे भारत और पाकिस्तान के बीच शांति प्रक्रिया को बढ़ावा मिला.
  • स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना: देश के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना शुरू की गई.
  • सूचना क्रांति का समर्थन: वाजपेयी सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी के विकास को बढ़ावा दिया, जिससे भारत में सूचना क्रांति आई.

एक कवि का सपना और राष्ट्र का विकास:

अटल बिहारी वाजपेयी न केवल एक सफल राजनीतिज्ञ थे, बल्कि एक प्रसिद्ध कवि भी थे. उनकी कविता में राष्ट्रप्रेम, प्रकृति और जीवन के दर्शन झलकते हैं. उनकी कुछ प्रसिद्ध कविताओं में ‘नया भारत’, ‘संकल्प’ और ‘समंदर की लहरें’ शामिल हैं.

वाजपेयी का मानना था कि भारत का विकास तभी संभव है जब हर नागरिक देश की तरक्की में अपना योगदान दे. उन्होंने ‘सबका साथ, सबका विकास’ का नारा दिया, जो उनके समावेशी दृष्टिकोण को दर्शाता है.

अटल बिहारी वाजपेयी का भारत:

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म और जयंती का दिन भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है. उनकी विनम्रता, राष्ट्रप्रेम और कूटनीतिक कौशल ने भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मजबूत बनाया.

उनके योगदानों को हमेशा याद रखा जाएगा और उनकी कविताएं आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेंगी.

Leave a Comment